Monday, December 3, 2007

सृजन शिल्पी (Srijan Shilpi, An Introduction)

यह वेबसाइट दुनिया भर में बसे सृजनशील एवं तकनीकी रूप से कुशल भारतीयों के लिए परस्पर संवाद और सहयोग का एक मंच है जो भारत को विकसित राष्ट्रों की अग्रिम पंक्ति में लाना चाहते हैं।

Shilpi

यदि आप किसी भी कला, शिल्प अथवा प्रौद्योगिकी में सृजनात्मक अभिरुचि रखने वाले तकनीकी रूप से कुशल व्यक्ति हैं और अपने भीतर समानता, स्वतंत्रता और मित्रवत सहयोग पर आधारित एक नई विश्व व्यवस्था के विकास के लिए प्रतिबद्धता तथा परस्पर संवाद और सहयोग की स्व-प्रेरणा और उत्साह का अनुभव करते हैं तो आपका हार्दिक स्वागत है।

सृजन शिल्पी भारत और हिन्दी के समग्र उत्थान के लिए समर्पित है। आप इस वेबसाइट पर व्यक्त विचारों एवं संवेदनाओं पर खुलकर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कीजिए और अपने प्रखर एवं रचनात्मक विचारों से निरंतर अवगत कराते रहिए। सृजन शिल्पी आपको अपनी रचना, लेख आदि के प्रकाशन के लिए खुला मंच भी प्रदान करता है। यदि आप स्वयं लेखक अथवा प्रकाशक हैं तो पुस्तकों की समीक्षा, अनुवाद अथवा प्रचार के लिए भी हमसे संपर्क कर सकते हैं। राष्ट्रीय सरोकारों से जुड़े मुद्दों पर किसी आयोजन के संबंध में प्रेस विज्ञप्ति भी हमें प्रकाशनार्थ भेजी जा सकती है। (चिट्ठे पर जाने के लिये नीचे दिये गये चित्र को चटकायें)

This is one of the best Hindi websites that I have seen. The name means Master At Creation. The webmaster uses this pseudonym throughout the blog.

The blog is full of nationalistic articles. The Master is dedicated to the total uplift of Hindi and India, and he invites all types of cooperation from Indophiles. We stronlgy urge you to visit this excellent website. Do not forget to check for the all the tabs seen at the top of this blog as they will take you to important documentation and information. Click on the picture above to be taken to the website.

 

आपने चिट्ठे पर विदेशी हिन्दी पाठकों के अनवरत प्रवाह प्राप्त करने के लिये उसे आज ही हिन्दी चिट्ठों की अंग्रेजी दिग्दर्शिका चिट्ठालोक पर पंजीकृत करें. मेरे मुख्य चिट्टा सारथी एवं अन्य चिट्ठे तरंगें एवं इंडियन फोटोस पर भी पधारें. चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: विश्लेषण, आलोचना, सहीगलत, निरीक्षण, परीक्षण, सत्य-असत्य, विमर्श, हिन्दी, हिन्दुस्तान, भारत, शास्त्री, शास्त्री-फिलिप, सारथी, वीडियो, मुफ्त-वीडियो, ऑडियो, मुफ्त-आडियो, हिन्दी-पॉडकास्ट, पाडकास्ट, analysis, critique, assessment, evaluation, morality, right-wrong, ethics, hindi, india, free, hindi-video, hindi-audio, hindi-podcast, podcast, Shastri, Shastri-Philip, JC-Philip

6 comments:

adam brown said...

Hello I just entered before I have to leave to the airport, it's been very nice to meet you, if you want here is the site I told you about where I type some stuff and make good money (I work from home): here it is

Santhosh said...

आपने बहुत सहीं बात बताया / पड़कर बहुत खुशी हुई / मे ये जानलेना चाहता हू कि, कौनसी टूल उसे करके आपने हिन्दी टाइप करते हे ? रीसेंट्ली मे यूज़र फ्रेंड्ली टाइपिंग टूल केलिए सर्च कर रहा ता, तो मूज़े मिला " क्विलपॅड ". ये तो 9 भाषा मे उपलाबद हे और इस मे तो रिच टेक्स्ट एडिटर भी हे / आप इसिक इस्तीमाल करते हे क्या...?

Maria Mcclain said...

interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!

RAJA said...

क्या आप मेरी मदद कर सकते है?मैने बहुत से विषयो पर शोध कीये है.तथा विभीन्न विषयो पर सुत्र एंव सिद्धांत दिये है.- मेरे कुछ व्याक्तीगत अनुभव व योग्यताए है जीसे मै प्रमाणित करना चाहता हु.जैसे- मै किसी भी विषय पर 1 घण्टा बोल सकता हुं,मै हर रोज भिन्न भिन्न विषयो पर एक पुस्तक लीख सकता हुं,मै भावनायो का 1 लाख से अधीक वर्गीकरण कर सकता हु,एव विभिन्न या कीसि विशेष भावनयो का आकलन स्तर गुणधर्म को व्याक्त कर सकता हुं, मै जो भी सोचता हुं उसे देख (मानसीक/आभासी) सकता हु,कीसि भी परीवेश, स्थीती वातावरण कि अनुसार मेरे मष्तीष्क मे आंतरीक बदलाव आते है एंव किसी विषय पर चर्चा, पढने,देखने या सुनने से उससे जुड़ीत सभी तथ्यो का जाल,चीत्र मेरे मष्तीष्क मे आते जाते है,गणीतीय सुत्र द्यारा भवीष्य का निर्धारण* और भी बहुत से तथ्य है जीसे मै संक्षेप में व्याक्त नही कर सकता.अगर किसी को मुझमे जरा भी विशेष लगे कृपया मेरी मदद करें जँहा मै अपने आप को प्रद्र्शीत व स्थापीत कर सकु ,मै ग्रामीण क्षेत्र से व नीन्म आय वर्ग से हु,मुझे नही पता मुझे क्या करना चाहीये कहां जाना चाहीये.मै अपनी शोध व योग्यता कीसी को बताने से डरता व शर्माता हु ताकी मेरा मजाक न उढाये,मै अपने आप को साबीत व प्रमाणीत करना चाहता हुं ,कृपया मेरी मार्गदर्शन करे*

RAJA said...

क्या आप मेरी मदद कर सकते है?मैने बहुत से विषयो पर शोध कीये है.तथा विभीन्न विषयो पर सुत्र एंव सिद्धांत दिये है.- मेरे कुछ व्याक्तीगत अनुभव व योग्यताए है जीसे मै प्रमाणित करना चाहता हु.जैसे- मै किसी भी विषय पर 1 घण्टा बोल सकता हुं,मै हर रोज भिन्न भिन्न विषयो पर एक पुस्तक लीख सकता हुं,मै भावनायो का 1 लाख से अधीक वर्गीकरण कर सकता हु,एव विभिन्न या कीसि विशेष भावनयो का आकलन स्तर गुणधर्म को व्याक्त कर सकता हुं, मै जो भी सोचता हुं उसे देख (मानसीक/आभासी) सकता हु,कीसि भी परीवेश, स्थीती वातावरण कि अनुसार मेरे मष्तीष्क मे आंतरीक बदलाव आते है एंव किसी विषय पर चर्चा, पढने,देखने या सुनने से उससे जुड़ीत सभी तथ्यो का जाल,चीत्र मेरे मष्तीष्क मे आते जाते है,गणीतीय सुत्र द्यारा भवीष्य का निर्धारण* और भी बहुत से तथ्य है जीसे मै संक्षेप में व्याक्त नही कर सकता.अगर किसी को मुझमे जरा भी विशेष लगे कृपया मेरी मदद करें जँहा मै अपने आप को प्रद्र्शीत व स्थापीत कर सकु ,मै ग्रामीण क्षेत्र से व नीन्म आय वर्ग से हु,मुझे नही पता मुझे क्या करना चाहीये कहां जाना चाहीये.मै अपनी शोध व योग्यता कीसी को बताने से डरता व शर्माता हु ताकी मेरा मजाक न उढाये,मै अपने आप को साबीत व प्रमाणीत करना चाहता हुं ,कृपया मेरी मार्गदर्शन करे*

प्रवेश गौरी 'नमन' said...

आपके सफल ब्लॉग के लिए साधुवाद!
हिंदी भाषा-विद एवं साहित्य-साधकों का ब्लॉग में स्वागत है.....
कृपया अपनी राय दर्ज कीजिए.....
टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
http://pgnaman.blogspot.com
हरियाणवी बोली के साहित्य-साधक अपनी टिपण्णी/सदस्यता के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें....
http://haryanaaurharyanavi.blogspot.com