Monday, November 19, 2007

बिना लाग लपेट के ? Without Anything Hidden ?

As I have been emphasising, Hindi blogs need to specialize. They also need to find niche markets where they remain unchallanged. Bina Laag Lapet Ke (Whithout Presumptions, or Without Hiding Anything) is such a website. Almost all articles are less than 200 words (most are less than 100) and mention niche subjects that nobody has thought about. A must-read for all, specially if you are short of time.

LaagaLapet

बिना लाग लपेट के तो ऋषिमुनि लोग भी कई बार बोल नहीं पाते हैं. लेकिन इस नाम के साथ हाल ही में अवतरित हुआ है एक चिट्ठा जो अकसर 100 शब्दों से कम में सब कुछ कह जाता है (और कई बार लोगों को लपेटे में ले लेता है).

विषयाधरित चिट्ठे, 200 शब्द से कम, एवं अन्य जिन बातों के बारे में मैं कुछ समय से लिखता आया हूं उन में से कई चीजें आप यहां देख सकते हैं. यदि आप दौडते दौडते भी पढना चाहते हैं तो इसे पढ सकते हैं. चिट्ठाकार अज्ञात है, लेकिन चिट्ठे ज्ञात एवं उपयोगी विषयों पर लिखे जा रहे हैं. यहां देखें:  बिना लाग लपेट

 

आपने चिट्ठे पर विदेशी हिन्दी पाठकों के अनवरत प्रवाह प्राप्त करने के लिये उसे आज ही हिन्दी चिट्ठों की अंग्रेजी दिग्दर्शिका चिट्ठालोक पर पंजीकृत करें. मेरे मुख्य चिट्टा सारथी एवं अन्य चिट्ठे तरंगें एवं इंडियन फोटोस पर भी पधारें. चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: विश्लेषण, आलोचना, सहीगलत, निरीक्षण, परीक्षण, सत्य-असत्य, विमर्श, हिन्दी, हिन्दुस्तान, भारत, शास्त्री, शास्त्री-फिलिप, सारथी, वीडियो, मुफ्त-वीडियो, ऑडियो, मुफ्त-आडियो, हिन्दी-पॉडकास्ट, पाडकास्ट, analysis, critique, assessment, evaluation, morality, right-wrong, ethics, hindi, india, free, hindi-video, hindi-audio, hindi-podcast, podcast, Shastri, Shastri-Philip, JC-Philip

1 comment:

केवल सच said...

dynavaad
link missing tha voh yae haen
http://maeriawaaj.blogspot.com/

such kehna , such sunnaa , aur kam mae jyaada kehna yahii koshish hae