Wednesday, October 10, 2007

ब्लॉगवाणी Blogvani Hindi Agregator

हिन्दी के दो प्रमुख एग्रीगेटरों के बाद प्रस्तुत है तीसरा प्रमुख एग्रीगेटर.

BV001

In recent articles we introduced Narad, the oldest Hindi agregator. We also introduced ChitthaJagat, the technically robust  and feature-rich  agregator. The third one is BlogVani  which can be interpreted to mean the Sound of Blogs, Voice of Blogs, etc.

While the first two are based upon PHP, this one is based upon ASP NET technology. Among the three BlogVani is the cutest and esthetically most pleasing. Anyone in a hurry would love this cute product with many features.

At present BlogVani registers blogs based upon criteria not made public. Thus the total number of Hindi blogs available is considerably less than the actual number of blogs. The order goes something like this: Blogvani (the smallest number of blogs), Narad (A larger number of blogs), Chitthajagat (the most comprehensive list of blogs).

You can visit BlogVani here: BlogVani

 

आपने चिट्ठे पर विदेशी हिन्दी पाठकों के अनवरत प्रवाह प्राप्त करने के लिये उसे आज ही हिन्दी चिट्ठों की अंग्रेजी दिग्दर्शिका चिट्ठालोक पर पंजीकृत करें. मेरे मुख्य चिट्टा सारथी एवं अन्य चिट्ठे तरंगें एवं इंडियन फोटोस पर भी पधारें. चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: विश्लेषण, आलोचना, सहीगलत, निरीक्षण, परीक्षण, सत्य-असत्य, विमर्श, हिन्दी, हिन्दुस्तान, भारत, शास्त्री, शास्त्री-फिलिप, सारथी, वीडियो, मुफ्त-वीडियो, ऑडियो, मुफ्त-आडियो, हिन्दी-पॉडकास्ट, पाडकास्ट, analysis, critique, assessment, evaluation, morality, right-wrong, ethics, hindi, india, free, hindi-video, hindi-audio, hindi-podcast, podcast, Shastri, Shastri-Philip, JC-Philip

9 comments:

अनिल रघुराज said...

वाकई ब्लॉगवाणी सबसे ज्यादा user freindly एग्रीगेटर है। यह इतना तेज है कि पूछिए ही मत। कुछ लोगों को इसकी तेजी से ही शिकायत हो सकती है कि इधर आपने पब्लिक किया नहीं कि उधर पोस्ट ब्लॉगवाणी पर आ जाती है।

Devi Nangrani said...

Anil Raghuraj ki baat se sahmat hoon. Bekhabar hone se khabardaar rahna behtar hai.

Devi

मीत said...

शास्त्री जी,

मैं blogging की दुनियाँ में अभी अभी आया हूँ. अब तक बस आप जैसे torchbearers को पढ़ रहा हूँ. हालाँकि इस बीच मैंने भी अक ब्लॉग बनाने की कोशिश की है. कृपया मेरी थोड़ी मदद करें. मुझे ये बताने का कष्ट करें कि मैं अपने ब्लॉग को blogvani पर कैसे रजिस्टर करूँ. क्या करूँ कि मेरे अपने ब्लॉग पर posts blogvani पे आ जाएँ.

Sir, I'll be really obliged. Kindly help me out. My e-mail id is ( iamanut@rediffmail.com .

Thanking you in anticipation.

मीत

Dhananjay said...

Shastri ji,
iam so much impressed to read this chittalok. i opened your blog to know how from Kadambini.its very impressive

Dhananjay Tiwari
Kanpur

vikram said...

hello bhai log plz visit my hindi blog http://mty-v.blogspot.com

i want to register this blog in blogvani, but it is not generating html code for my blog.

श्याम सखा 'श्याम' said...

GAZAL K BAHANE

visit my blog at http;// GAZAL K BAHANE.blogspot.com

vahan gazal ke baare men dekhen,u will like it
shyamskha

जीतेन्द्र जीत said...

ब्लॉगर्स मीटिंग
----------

8 दिसंबर 2011 के 'हिंदुस्तान' दैनिक में ब्लॉगर्स मीट के बारे में प्रकाशित आर्टिकल पढ़कर लगा था कि संसद मार्ग में हिन्दी ब्लॉगर्स मीटिंग होने
जा रहा था, लेकिन वहाँ जाने पर देखा कि वह हिन्दी ब्लॉगर्स मीटिंग नहीं था.
वहाँ सभी अंग्रेजी में बोल रहे थे और आयोजक कंपनी अपने उत्पाद का प्रचार कर रही थी.हमें अविलंब हिन्दी ब्लॉगर्स का एक बृहत् मीटिंग बुलाना चाहिए.

जीतेन्द्र जीत
मो. 9717725718
ई - मेल : jeetendra.jeet.letter@gmail.com
http:// kamalahindi.blogspot.com

kamalahindi said...

हिन्दी कहानी : एक अध्ययन


जीतेन्द्र जीत

हिन्दी अकादमी, दिल्ली ने 'तीन पीढ़ी : तीन दिन' कार्यक्रम के अंतर्गत सोमवार, 6 अगस्त 2012 को सायं 5.30 बजे 'कहानी पाठ' का आयोजन किया। तीन पीढ़ी से- नयी पीढ़ी के विवेक मिश्र, द्वितीय पीढ़ी से चित्रा मुदगल और तीसरी पीढ़ी से कथा वाचन में राजेंद्र यादव थे।

1. विवेक मिश्र की कहानी का शीर्षक 'ए गंगा तुम बहती हो क्यों' सुनकर लगा कि लेखक कुछ तथ्य की बातें कहना चाहता है लेकिन कहानी इसका पुष्टि नहीं करती।

2. चित्रा मुदगल की कहानी 'बेईमान', पढ़े-लिखे और आधुनिक कहलानेवाले लोगों का व्यवहार, कई
प्रश्न उपस्थित करती है।
3. राजेंद्र यादव अपनी पाँच छोटी-छोटी व्यंग्य एवं अन्य कहानी सुनाये।

यदि आपको लगे कि अपनी या अध्ययन की गयी उत्कृष्ट कहानी रचनात्मक प्रशिक्षण के दृष्टिकोण से उपयुक्त है, तो भेजें। यहाँ आपके द्वारा उसकी चर्चा की जाएगी।

शीघ्र शुरू होने जा रही 'हिन्दी कहानी : एक अध्ययन' कथा गोष्ठी में भाग लेने के लिए आप
सादर आमंत्रित हैं। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें- मो. 09654148379 / 09717725718
www.kamalahindi.blogspot.com

Anil Sahu said...

ब्लॉग वाणी पर मैं भी अपने ब्लॉग को submit करना चाहूँगा.